कोशिश करने वालों की – सोहन लाल द्विवेदी | KOSHISH KARNE WALON KI – SOHAN LAL DWIVEDI

Bolte Chitra
0

 कोशिश करने वालों की - सोहन लाल द्विवेदी हिंदी कविता अंग्रेजी में अनुदित, Koshish Karne Walon Ki - Sohan Lal Dwivedi In Hindi, English.

कोशिश करने वालों की – सोहन लाल द्विवेदी | KOSHISH KARNE WALON KI – SOHAN LAL DWIVEDI

बहुत से लोग इस कविता को हरिवंश राय बच्चन जी की, या निराला जी की लिखी बताते है, परन्तु हमने अपने शोध में ऐसा नहीं पाया. ये कविता सोहनलाल द्विवेदी जी की ही लिखी इसकी पुष्टि बहुत से प्रमाणिक स्थानों से की जा सकती है. यहाँ हम अमिताभ बच्चन जी के एक फेसबुक पेज का लिंक दे रहे है जिसमे उन्होंने खुद ये बात स्वीकार की है की ये कविता उनके पिता द्वारा नहीं लिखी गयी है बल्कि सोहनलाल द्विवेदी जी द्वारा ही लिखी गयी है.

संछिप्त परिचय –

22 फरवरी 1906 – 1 मार्च 1988, हिन्दी के प्रसिद्ध कवि. आपको कई जगह राष्ट्रकवि भी कहा गया. स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और गाँधीवादी कवि. “तुम्हे नमन” नामक कविता ज्यादा प्रचलित. बालोपयोगी रचनाएँ भी लिखीं. 1969 में भारत सरकार ने आपको पद्मश्री उपाधि प्रदान की.

BOLTECHITRA 1 – कोशिश करने वालों की – सोहन लाल द्विवेदी | KOSHISH KARNE WALON KI – SOHAN LAL DWIVEDI

हिंदी में :

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती.

IN ENGLISH :

You cannot take your boat across the sea, if you are afraid of the waves.
The one who tries Never fails.

IN HINGLISH OR PHONETIC :

Laharon se ḍaar kar naukaa paar naheen hotee,
koshish karane vaalon kee kabhee haar naheen hotee
(nextPage)

BOLTECHITRA 2 – कोशिश करने वालों की – सोहन लाल द्विवेदी | KOSHISH KARNE WALON KI – SOHAN LAL DWIVEDI

हिंदी में :

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है.
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है.
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती.

IN ENGLISH :

The tiny ant carries a small grain in its mouth,
Climbs up on the wall, slips and falls a hundred times,
The determination in the mind fills your body with courage,Then climbing up and falling down does not hurt, Ultimately, its (the ant’s) efforts do not go waste, The one who tries. Never fails.

IN HINGLISH OR PHONETIC :

Nanheen cheenṭee jab daanaa lekar chalatee hai,
chaḍhxtee deevaaron par, sau baar fisalatee hai.
Man kaa vishvaas ragon men saahas bharataa hai,
chaḍhxkar giranaa, girakar chaḍhxnaa n akharataa hai.
Aakhair usakee mehanat bekaar naheen hotee,
koshish karane vaalon kee kabhee haar naheen hotee.
(nextPage)

BOLTECHITRA 3 – कोशिश करने वालों की – सोहन लाल द्विवेदी | KOSHISH KARNE WALON KI – SOHAN LAL DWIVEDI

हिंदी में :

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है.
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में.
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती.

IN ENGLISH :

The diver dives into the water of the sea,
He returns empty handed a number of times,
Not easy it is to find a pearl in the deep waters,
But this in turn doubles his enthusiasm,
His hands are not empty every time,
The one who tries Never fails.

IN HINGLISH OR PHONETIC :

ḍaubakiyaan sindhu men gotaakhor lagaataa hai,
jaa jaa kar khaalee haath lauṭakar aataa hai.
Milate naheen sahaj hee motee gahare paanee men,
baḍhxtaa duganaa utsaah isee hairaanee men.
Muṭṭhee usakee khaalee har baar naheen hotee,
koshish karane vaalon kee kabhee haar naheen hotee.
(nextPage)

BOLTECHITRA 4 – कोशिश करने वालों की – सोहन लाल द्विवेदी | KOSHISH KARNE WALON KI – SOHAN LAL DWIVEDI


हिंदी में :

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो.
जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम.
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती.
सोहन लाल द्विवेदी

IN ENGLISH :

Failure is a challenge, accept it,
Recognise your shortcomings, rectify them.
Till you are successful, shun rest and sleep,
Never run away from the battlefield of hard work,
You cannot get praise without working for it,
The one who tries Never fails.
Sohan Lal Dwivedi


IN HINGLISH OR PHONETIC :

Asafalataa ek chunautee hai, ise sveekaar karo,
kyaa kamee rah ga_ii, dekho aur sudhaar karo.
Jab tak n safal ho, neend chain ko tyaago tum,
sngharṣ kaa maidaan chhod kar mat bhaago tum.
Kuchh kiye binaa hee jay jay kaar naheen hotee,
koshish karane vaalon kee kabhee haar naheen hotee.
Sohan Lal Dwivedi

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !